कोरोना: 23 राज्यों के 61 जिलों में 14 दिन से कोई नया मामला नहीं (रिपोर्ट- योगी अंगद सारण)

0
105

कोरोना: 23 राज्यों के 61 जिलों में 14 दिन से कोई नया मामला नहीं

रिपोर्ट- योगी अंगद सारण

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 1335 नए मामले सामने आए हैं और इस दौरान 47 लोगों की मौत हुई। अबतक कुल 18 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हुए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय, गृह मंत्रालय और आईसीएमआर ने मंगलवार को संवाददाता सम्मेलन में कोरोना वायरस को लेकर कई और जानकारियां दीं। प्रेस कांफ्रेंस में कोविड-19 पर गठित एंपावर्ड ग्रुप 4 के चेयरमैन अरविंद पांडा भी मौजूद थे। इस दौरान स्वास्थ्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि 23 राज्यों के 61 जिलों में 14 दिन से कोई नया मामला नहीं आया है और अब संक्रमण की दर भी कम हो रही है।  

एंपावर्ड ग्रुप 4 के चेयरमैन ने कहा

24 घंटे में 47 लोगों की मौत हुई, कोरोना के मामले 18 हजार के पार, कुल 590 लोगों की मौत हुई।
पिछले 24 घंटे में 1335 नए मामले सामने आए हैं।
कोविड वॉरियर्स के लिए बनाया गया मास्टर डाटाबेस।
covidwarriors.gov.in पर कोरोना योद्धाओं से जुड़ी हर जानकारी ले सकते हैं।
डाटाबेस में 1.24 करोड़ कोरोना योद्धाओं की जानकारी।
अस्पतालों-डॉक्टरों की जानकारी ले सकते हैं। 
ट्रेनिंग की जानकारी देने के लिए वेबसाइट igot.gov.in बनाई गई। 
आयुष छात्रों को भी ट्रेनिंग दे रहे हैं, 15 हजार आयुष योद्धा तैनात किए गए हैं।  
18 लाख से ज्यादा वालंटियर्स ने ज्वाइन किया है। 

गृह मंत्रालय ने कहा

जो इलाके हॉटस्पॉट नहीं हैं, वहां कार्यों की अनुमति दी गई है।
मजदूरों को एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए परमिट दिए गए हैं।
चार राज्यों में सहायता के लिए टीम भेजी गई।
20 अप्रैल के बाद कई ग्रामीण इलाकों में काम शुरू हुआ है, कुछ राज्यों में मनरेगा व सड़क बनाने का काम शुरू हुआ है।
खुशी है कि ग्रामीण कोरोना को लेकर पूरी तरह सतर्क हैं और मुंह पर गमछा-रुमाल बांध रहे हैं।
सभी लोग लॉकडाउन का पालन करें जैसे सोशल डिस्टेंसिंग।
महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, राजस्थान में केंद्र की टीमों को सहयोग मिल रहा है। 
प. बंगाल में जो टीम गई, राज्य सरकार और प्रशासन से सहयोग नहीं मिल रहा है। 
ये आपदा अधिनियम के तहत केंद्र सरकार के निर्देशों का उल्लंघन है।  

आईसीएमआर ने कहा  
अबतक 4 लाख 49 हजार 810 टेस्ट हुए हैं।  
कल 35 हजार से ज्यादा टेस्ट किए गए थे। 
सभी राज्यों में रैपिड टेस्ट किट बांटी गई, एक राज्य ने कहा कि वहां कुछ समस्या आई।
कोरोना को साढ़े तीन महीने हो चुके हैं, अब जो भी चीज सामने आएगी उसे और रिफाइन करना पड़ेगा।
रैपिड और आरटी-पीसीआर टेस्ट में फर्क मिला है।
राज्य अगले दो दिन में ये टेस्ट किट इस्तेमाल ना करें, जांच के बाद हम रिप्लेसमेंट के लिए कंपनी को कह सकेंगे।
दो दिन तक जांच करेंगे, जांच के बाद दिशा-निर्देश जारी करेंगे।
ये एक नई बीमारी है, पिछले साढ़े तीन महीने में विज्ञान आगे बढ़ा है और पीसीआर टेस्ट को ईजाद किया। इंसानों पर पांच वैक्सीन का ट्रायल किया गया है। इससे पहले इस तरह की बीमारी का कोई मामला नहीं दिखा है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here