पडरौना,कुशीनगर:- लाक डाउन में कुशीनगर में सुहेल के अब्बू को काम नही मिलने पर परिवार को भोजन चलाने के लिए खीरा बेचने पर मजबुर है मासूम, ( रिपोर्ट- गोल्डेन कुशवाहा )

0
277

लाक डाउन में कुशीनगर में सुहेल के अब्बू को काम नही मिलने पर परिवार को भोजन चलाने के लिए खीरा बेचने पर मजबुर है मासूम

रिपोर्ट- गोल्डेन कुशवाहा

पडरौना,कुशीनगर: एक पेड़ के नीछे छांव में रुका हुआ था कि एक छोटा सा मासुम बच्चा दिखा मुझे! बुलाकर नाम पूछा तो बताया कि सुहेल नाम है,खीरा बेच रहा हूँ गली चौराहे पर घूम कर, मेरे बाप यानी अब्बू को मजदुरी नही मिल रहा हैं,वैसे तो लाक डाउन के पहले मेरे अब्बू लोगो के कपड़ा सील कर करके परिवार में भोजन चलाते थे,लेकिन लाक डाउन होने की वजह से पिछले 25 दिनों से पैसे पैसे के मोहताज हो गए,फिर सुहेल ने कहा कि मैं बच्चा हूँ,इस लाक डाउन में शायद पुलिस मुझे नही मारेगी और मारेगी तो भी क्या हुआ दो पैसे तो मिलेंगे,और अब्बू से बोल कर साइकिल पर एक टोकरी में खीरा बेचने निकला गया हु ! मैं चुप चाप उसकी बात सुनता रहा था,लेकिन कुछ बोलने को नही था मेरे पास,10 की नोट निकालकर उसे देने लगा तो वो लेने से इनकार कर दिया बोला कि 5 के एक खीरे हैं,तभी हम दो वहां साथी मौजूद उस से खीरा लिया और उसने पैसा लेकर दुसरे गांव के चौराहे की ओर चला गया,हालांकि काफी देर से बैठे हम दोनों साथी उसी के बारे में सोच रहे थे,कि इतनी छोटी सी उम्र में पूरे परिवार का बोझ उठा रहे मासुमियत पर गांव प्रधान,कोटेदार के अलावा जिला प्रशासन ध्यान क्यों नहींदे रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here