बस्ती-कप्तानगंज:- लेके मन मे विश्वास चल चला चल तू अकेला चल चला चल ( रिपोर्ट:- आकाश मोदी )

0
83

लेके मन मे विश्वास चल चला चल तू अकेला चल चला चल

रिपोर्ट आकाश मोदी बस्ती

बस्ती:- कप्तानगंज कस्बे में सोमवार को 10 बजे तीखी धूप में एक ऐसी प्रवासी मजदूर के तस्वीर को कैमरे में कैद करते हुये कलेजा दिल को आगया,बाएं पैर से विकलांग पचपन वर्षीय राम सूरत पुत्र ईश्वर निवासी गोला गोकर्ण नाथ लखीमपुर खीरी राष्ट्रीय राजमार्ग पर अपने जीवट हाथों से अपने छोटी सी जुगाड़ू बेयरिंग लगी लढ़िया पर कुछ सामान व कपड़ा रखकर और उसी पर बैठकर अपने हाथों से उसको सरकाते हुये मंजिल की तरफ बढ़ते चले जा रहे हैं। गौरतलब बात तो यह है की विकलांग प्रवासी मजदूर की इस तरह से कर रहे कठिन यात्रा पर शासन प्रशासन के तमाम जिम्मेदार लोगों में से किसी की नजर भी इन पर नहीं पड़ी , रास्ते में खाने को मिला तो खा लिए रास्ते में किसी ने सहायता कर दिया तो उसको तहे दिल से धन्यवाद दे दिए और मंजिल की तरफ आगे बढ़ लिए ऐसा बताना है इनका,
————-
ये तस्वीर नहीं सरकारों के मुहं पर तमाचा है। सोमवार को बस्ती जिले के कप्तानगंज कस्बे में ये नजारा देखने को मिला। ये प्रवासी श्रमिक हैं। ये हजारों किलोमीटर दूर से अपने छोटी सी लढ़िया गाड़ी पर बैठकर और उसे अपने हाथों से सरकाते हुये अपने मंजिल की तरफ बढ़ चले हैं। अब अपने जिले, अपने घर जाएंगे।’ जिद्दोजहद, जद्दोजहद, जीवटता और संघर्ष देखिए। ये कैसे भी घर पहुंचना चाहते हैं। इनकी जिजीविषा पर शब्द ढूढे भी नहीं मिल रहे। शायद आपको मिल जाएं। चुप्पी तोड़िए। कुछ कहिए। इस वर्तमान हालात पर..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here