बागपत:- बागपत के राष्ट्रीय पशु संस्थान को मिली बकरी प्लेग बीमारी की वैक्सीन जाँच की अनुमति। (रिपोर्ट विश्व बंधु शास्त्री )

0
101

बागपत के राष्ट्रीय पशु संस्थान को मिली बकरी प्लेग बीमारी की वैक्सीन जाँच की अनुमति

रिपोर्ट विश्व बंधु शास्त्री 

बागपत। शायद आप सुनकर हैरत में पड़ जाएंगे लेकिन यह सच है कि उत्तर प्रदेश के बागपत में देश भर के पशुओं की जान बचाने का काम होता है। जी हां! चौधरी चरण सिंह राष्ट्रीय पशु स्वास्थ्य संस्थान बागपत में प्रयोगशाला में स्वस्थ तथा उत्पादक पशुधन के लिए वैश्विक मापदण्डों के अनुरूप मानक, प्रभावी और सुरक्षित टीका और जैविक उत्पादों की जांच होती है। जांच में खरी मिलने के बाद पशु वैक्सीन बाजार में आती है। इसी क्रम में अब पशु संस्थान को बकरी प्लेग के नाम से प्रचलित पेस्ट डेस पेटिट्स रुमिनेंट्स बीमारी की वैक्सीन की जांच करने की अनुमति मिली है।
जनपद बागपत मुख्यालय के पास 15 साल पूर्व चौधरी चरण सिंह राष्ट्रीय पशु स्वास्थ्य संस्थान की स्थापना हुई थी। दक्षिण एशिया के भारत समेत पाकिस्तान, बांगलादेश, श्रीलंका, नेपाल, भूटान व मालदीव आदि का इकलौता यह संस्थान वर्ष 2006 में चालू हुआ। यहां वैज्ञानिकों की टीम पशुओं की खुरपका-मुंहपका, गलघोंटू वैक्सीन और मुर्गियों की बीमारी में प्रयोग होने वाले रानीखेत टीके वैक्सीन को जांचने का काम अत्याधुनिक तकनीक से करती है।
वैज्ञानिकों की जांच के बाद ही कंपनियों को पशुओं की दवाइयों को बाजार में उतारने की अनुमति मिलती है। वैक्सीन परखने के साथ वैज्ञानिक वायरस और उनके बदलते रूप पर भी पैनी निगाह रखते हैं। फिलहाल यहां भारत में ही बनने वाली वैक्सीन परखने का काम होता है, लेकिन उम्मीद है कि आने वाले दिनों में दूसरे देशों की पशु वैक्सीन की जांच का काम भी होने लगेगा। इसके लिए संस्थान के अधिकारी प्रयासरत हैं। चौधरी चरण सिंह राष्ट्रीय पशु संस्थान के निदेशक डा. प्रवीण मलिक के अनुसार, अन्य देशों में बनी वैक्सीन की जांच करने में भी संस्थान सक्षम हैं लेकिन यह जाँच कार्य भारत सरकार से अनुमति मिलने के बाद होगा। उनका कहना है कि संस्थान के वैज्ञानिक इस दिशा में प्रयासरत हैं कि दूसरे देशों की पशु वैक्सीन की जांच भी यहां होने लगे।
संस्थान के निदेशक प्रवीण मलिक ने बताया कि अब बकरियों की पेस्ट डेस पेटिट्स रुमिनेंट्स बीमारी की वैक्सीन जांचने का जिम्मा भी चौधरी चरण सिंह राष्ट्रीय पशु संस्थान बागपत को मिला है। इस वैक्सीन को परखने का काम वे जल्द शुरू कराएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here