संतकबीरनगर:- काश्तकार टूटी फूटी नाली के सहारे खेतों की करते हैं सिंचाई ( रिपोर्ट:- सत्य प्रकाश )

0
155

काश्तकार टूटी फूटी नाली के सहारे खेतों की करते हैं सिंचाई

रिपोर्ट:- सत्य प्रकाश

संत कबीर नगर।विकास खण्ड खलीलाबाद अन्तर्गत ग्राम पंचायत अशरफाबाद नलकूप की नाली टूटी फूटी हालत में है।जिसके कारण काश्तकारों को खेतों की सिंचाई करने में भारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।जिसकी शिकायत विभाग के उच्च अधिकारियों से कई की जा चुकी है।फिर भी समस्या जस की तस बनी हुई है।ग्रामीणों ने विभागीय अधिकारियों से ट्यूवेल नाली की मरम्मत कराने की मांग की है
ग्राम अशरफाबाद क्षेत्र के काश्तकार अपने खेतों की सिंचाई आसानी से कर सकें।जिसके लिए सिंचाई विभाग ने ट्यूवेल बनाया।ताकि किसान अपने खेतो की समय समय पर सिंचाई कर सकें।इस ट्यूवेल से अशरफाबाद,ब्यारा और पड़रिया गांव के सिवान तक के खेतों की सिंचाई की जाती है।ट्यूवेल से पानी खेतों तक जा सके इसके लिए नाली के निर्माण किया गया था।जो लगभग टूट कर बरबाद हो चुकी हैं।जिसके कारण किसानों को खेतों की सिंचाई करने में कठिनाई हो रही है।नाली के टूटने की उच्च अधिकारियों से कई बार लिखित शिकायत भी की जा चुकी है।गांव के किसान और पूर्व प्रधान परमेश्वर यादव ने बताया कि धान के बुआई का समय आ गया है।सभी लोग धान के बीज की रोपाई की तैयारियाँ कर रहे हैं।धान का बेहन डालने के लिए पानी की जरूरत पड़ती है लेकिन नाली के टूटने के कारण ट्यूवेल का पानी खेत में नहीं पहुंच रहा है।जिससे धान के बीज डालने में कठिनाई हो रही है।पुर्णवासी यादव ने बताया कि जबसे ट्यूवेल का निर्माण हुआ है लोगों को खेतों व फसल की सिंचाई करने में बहुत सहुलियत मिली है।लेकिन पिछ्ले कई महिने से ट्यूवेल की नाली टूटी पड़ी है।इसे बनवाने अथवा मरम्मत कराने में विभागीय अधिकारी के रुचि नहीं लेने से किसानों को ट्यूवेल का पानी पर्याप्त मात्रा में नहीं मिल पाता है।जिसके कारण फसलें सूखने लगती हैं।गांव के जुग्गी लाल का कहना है कि उनके ग्राम पंचायत के क्षेत्र की खेती बलुअट होने के कारण खेती किसानी में पानी की अधिक आवश्यकता पड़ती है।इसका एक मात्र सहारा ट्यूवेल ही रह गया है।जिसके भरोसे पूरे गांव के सिवान की खेत की सिंचाई होती है।ट्यूवेल की नाली टूट जाने के कारण काश्तकार ट्यूवेल के पाईप मे डिलेवरी पाईप को लगा कर खेतों तक पानी ले जाते हैं।कभी कभी डिलेवरी पाईप के फट जाने से पानी रास्ते में ही फैल जाता है।जिससे खेतों की सही ढंग से सिंचाई नहीं हो पाती है।इस संबंध में ट्यूवेल चालक फूल जी यादव के बताया कि ट्यूवेल चालू हालत में है लेकिन खेतो तक पानी जाने के लिए नाली टूट कर बरबाद हो गई।जिसके कारण ट्यूवेल चालू करने के बाद सारा पानी ट्यूवेल के आस पास फैलने लगता है।टूटी हुई नाली के मरम्मत को कराने के लिए उच्च अधिकारियों को कई बार पत्र लिख कर सूचना दी जा चुकी है।इसके बावजूद अभी तक नाली का मरम्मत नहीं हो सका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here