संतकबीरनगर:- गोरखपुर में कोरोना की दस्तक, एक संक्रमित मिला, गोला के उरुवा क्षेत्र का मामला ( रिपोर्ट:- विजय गुप्ता )

0
201

गोरखपुर में कोरोना की दस्तक, एक संक्रमित मिला, गोला के उरुवा क्षेत्र का मामला

रिपोर्ट:- विजय गुप्ता

संतकबीरनगर:- कोरोना वायरस ने गोरखपुर में भी दस्तक दे दी है। गोला तहसील के उरुवा थाना क्षेत्र के हाटा बुजुर्ग निवासी बाबूलाल 49 वर्ष की रविवार की रात में संक्रमण की पुष्टि हुई है। उसे बीआरडी मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। बीआरडी के प्राचार्य डॉ. गणेश कुमार ने बताया कि हाटा बुजुर्ग निवासी बाबूलाल को रविवार की शाम करीब सात बजे परिजन एम्बुलेंस से लेकर पहुंचे। उसकी सांस फूल रही है। सीने में दर्द की शिकायत थी। वह बीपी और शुगर का मरीज है। उसकी हालत को देखकर डॉक्टरों ने आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया। फौरन गले से लार का नमूना कोरोना जांच के लिए भेजा गया।
प्राचार्य ने बताया कि मरीज की हालत को देखते हुए उसके सैम्पल की सीबीनेट मशीन से जांच करने का फैसला किया गया। यह मशीन करीब डेढ़ घंटे में रिपोर्ट देती है। रात करीब 10 बजे रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव मिली। इसकी सूचना फौरन कमिश्नर, डीएम और सीएमओ को दी गई। मरीज के साथ ही परिजनों को क्वारंटीन कर दिया गया है। मरीज का इलाज शुरू हो गया है।
प्राचार्य ने बताया कि बाबूलाल रविवार को ही दोपहर में दिल्ली से लौटा है। तीमारदारों ने बताया कि दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में शुगर और बीपी के इलाज के लिए भर्ती था। घर पर शाम पांच बजे तबीयत खराब हुई। सबसे पहले पीएचसी उरुवा ले जाया गया, वहां से जिला अस्पताल फिर बीआरडी लाया गया।
संक्रमित के साथ एंबुलेंस से आए हैं उरुवा के तीन लोग
दिल्ली में मजदूरी करने करने वाले बाबूलाल की तबीयत चार दिन पहले खराब हुई। उसके साथ दिल्ली में ही उरुवा क्षेत्र के तीन और लोग रहते हैं। जिसमें असिलाभार का सोनू भी शामिल है। साथियों ने उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया। बाबूलाल को सीने में दर्द की शिकायत रही। शनिवार को सफदरजंग अस्पताल के डॉक्टरों ने उसे रेफर कर दिया। साथियों ने बाबूलाल को दिल्ली में दूसरे अस्पताल ले जाने की बजाय गोरखपुर लाने का फैसला किया। बाबूलाल के साथ तीनों साथी भी दिल्ली से एम्बुलेंस में लौटे। एम्बुलेंस ने तीनों को उरुवा में उतारा। इसके बाद बाबूलाल को उसके घर दोपहर एक से दो बजे के बीच उतारा।
बीआरडी ले गया बेटा गोविन्द
शाम चार बजे के बाद बाबूलाल की तबीयत बिगड़ने लगी। घर पर पिता नंदलाल, माता राजदेई, पुत्र अजय, हरिलाल और गोविन्द मौजूद थे। गोविन्द पिता को लेकर पीएचसी उरूवा पहुंचा। यहां डॉक्टर आबिद ने उसकी जांच कर जिला अस्पताल रेफर किया। वहां से बीआरडी रेफर कर दिया गया।
गांव के लिए रवाना हुई कोविड-19 टीम
बाबूलाल के पॉजिटिव होने की सूचना के बाद प्रशासन हलकान हो गया। कमिश्नर जयंत नार्लीकर ने कमान संभाली। आनन-फानन में कोविड-19 टीम को गांव के लिए रवाना किया गया। इसके साथ ही उरुवा पीएचसी के डॉक्टरों को भी गांव में भेजा गया। पुलिस टीम घर के सदस्यों का ब्योरा जुटाएगी। एम्बुलेंस से लौटे तीनों युवकों की तलाश करेगी। इसके साथ उनके परिवारीजनों को क्वारंटीन करेगी। टीम गांव के तीन किलोमीटर के एरिया को सील कर उसे सैनेटाइज करेगी।

जिले का है पहला मरीज
बाबूलाल के पाजिटिव होने के साथ ही गोरखपुर से ग्रीनजोन का तमगा हट गया। यह जिले में पहला कोरोना मरीज हैं। लॉकडाउन के दूसरे फेज में यह मरीज मिला है। इसके साथ ही प्रशासन की परीक्षा भी शुरू हो गई है।

गोविन्द से ली जा रही जानकारी
जिले को कोरोना के प्रकोप से बचाने के लिए स्वास्थ्य विभाग के साथ पुलिस टीम लग गई है। कान्टेक्ट ट्रेसिंग के लिए गुलरिहा पुलिस के दारोगा बेटे गोविन्द से जानकारी ले रहे हैं। सूचनाओं को कोविड टीम को भेजा जा रहा है।

बोले कमिश्नर
दिल्ली से रविवार को लौटा हाटा बुजुर्ग का रहने वाला एक व्यक्ति जांच में वह कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। मेडिकल कॉलेज में उसका इलाज शुरू हो गया है। साथ ही वह गांव में किन-किन लोगों से मिला इन सब की जानकारी जुटाई जा रही है। एक व्यक्ति संक्रमित के साथ आया था, उसे आइसोलेट कर दिया गया है। साथ सभी जरूरी कार्रवाई शुरू कर दी गई है।
जयंत नार्लीकर, कमिश्नर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here