संतकबीरनगर :समाजसेवी डा. उदय प्रताप चतुर्वेदी के नेतृत्व में आज हजारों लोग चन्दापार गृह प्रवेश में होगें शामिल ( रिपोर्ट : विजय गुप्ता )

0
148

समाजसेवी डा. उदय प्रताप चतुर्वेदी के नेतृत्व में आज हजारों लोग चन्दापार गृह प्रवेश में होगें शामिल

*संतकबीरनगर।* कहावत है कि ‘‘मरहम लगा सको तो किसी गरीब के जख्मों पर लगा देना, हकीम बहुत हैं बाजार में अमीरों के इलाज खातिर’’ यह कहावत जिले के समाजसेवी व प्रतिष्ठित संस्था सूर्या इंटर नेशनल सीनियर सकेण्ड्री स्कूल के प्रबन्ध निदेशक डा. उदय प्रताप चतुर्वेदी पर सटीक बैठ रहा है। कहने को संतकबीरनगर में आर्थिक व सामाजिक रूप से मजबूत लोगों की फौज सैकड़ों की संख्या में है, लेकिन दूसरे पर अपना धन न्यौछावर करने वालों की संख्या नही के बराबर है। सूर्या इंटर नेशनल सीनियर सकेण्ड्री स्कूल सहित दर्जनभर शिक्षण संस्थान के प्रबन्ध निदेशक व समाज सेवी डा. उदय प्रताप चतुर्वेदी अपना व परिवार का नाम निरन्तर आम जन मानस में एक समाज सेवी के रूप में रोशन कर रहें है। डा. उदय प्रताप चतुर्वेदी समाज सेवा के क्षेत्र में एैसा इतिहास रच दिये है, जो सदियो तक लोग याद करेंगे, और आने वाली पीढ़ी भी इस जिन्दादिली इंसान को सदैव गर्व से प्रणाम करेगी। ओ इंसान है या कोई मसीहा, फरिश्ता व कोई चमत्कार जिस क्षेत्र में डा. उदय प्रताप चतुर्वेदी पहुंचते है, भारी संख्या में भीड़ उन्हें देखने के लिए उमड़ पड़ती है, गरीब मजबूर और क्षेत्रवासी उनका जिस आदर के साथ सम्मान करते है, और उनके लम्बी आयु की दुआ मांगते है, यह किसी की कहानी या जुबानी नहीं है, बल्कि जनता के दिलों पर डा. उदय प्रताप चतुर्वेदी राज कर रहें है। डा. चतुर्वेदी के लोकप्रियता आमजन मानस के सिर पर चढ़कर बोल रहा है। डा. उदय प्रताप चतुर्वेदी का सरल स्वाभाव धैर्य, इमानदारी, दृण इच्छा शक्ति, सर्घषशील व्यक्तित्व, सहृदयता की भावना, नया आयाम गढ़ रहीं है। संतकबीरनगर जनपद के बगिया में गरीबों के लिए खिला यह फूल आज अपनी खुशबू से गरीब मजदूर व बेसहारा के जीवन में सुगंध भर रहा है। डा. चतुर्वेदी की दरियादिली कहें या जन सेवा की भावना, जो उनको विगत वर्षो से अपने व्यक्तिगति आय से खर्च करने के लिए प्ररेणा मिल रहा है। समाज के हर वर्ग के प्रति उनकी कर्तव्य निष्ठा उन्हें एक गरीबों के मसीहा की दर्जा दिलाती है। मृदभासी होने के चलते दूसरों की पीड़ा बेहतर समझते है, शायद इसी लिए जिस क्षेत्र में डा. चतुर्वेदी पहुंचते है, उनका सभी लोग सम्मान करते है। जनपद में रहने वाले सभी जरूरतमंदो की मदद करने की चर्चाओं से वाकिफ है। चाहे नदी का कटान पीड़ित हो, चाहे आग पीड़ित हो, बिमार, किसी के बेटा-बेटी की फीस जमा करना हो, या कोई दुर्घटना का शिकार हुआ हो या किसी के बेटी का हाथ पीला करना हो, डा. चतुर्वेदी को जैसी ही सूचना मिलती है, जरूरतमंदो के पास पहुंचकर तत्काल मदद करते है। डा. चतुर्वेदी के घर कोई भी जरूरतमंद पहंुचता है, खाली हाथ वापस नहीं जाता है, उसे किराया भी देने का कार्य डा. चतुर्वेदी द्वारा किया जाता है। लाॅकडाउन के दौरान डा. उदय प्रताप चतुर्वेदी ने महाराष्ट्र, उत्तराखण्ड, दिल्ली सहित कई प्रांतो से आये प्रवासी मजदूरों को भोजन व आर्थिक मदद करके राहत पहुंचाने का कार्य किया और साथ ही साथ क्षेत्र के लोगों का हाल-चाल लेते रहें और जरूरतमंदों को राशन व जरूरी सामाग्री पहुचाते रहें। लाॅकडाउन के दौरान डा. चतुर्वेदी की सहृदयता यह रहीं की सुबह होते ही गांव-गांव में पहंुचकर राशन व नगद देकर लोगों की मदद करते रहें। इतना ही नहीं कोरोना काल की शुरूआत से ही लोगो को शोसल डिस्टेसिंग का पालन करने, मास्क व सेनिटाईजर और कोरोना से लड़ाई लड़ने के लिए लोगों को प्रेरित किया। आये हम बात करें डा. उदय प्रतप चतुर्वेदी के दरियादिली में तो अभी हाल में विकास क्षेत्र नाथनगर के चन्दापार गांव निवासी दिलीप मिश्रा आधा दर्जन परिवार के साथ टूटी झोपड़ी में निवास करते थे, इसकी जानकारी होने पर उन्होंने अपने समर्थकों के साथ चन्दापार गांव पहुंचे और दिलीप मिश्रा का झोपड़ी देखकर उनका दिल पसीज गया। समाज सेवी डा. उदय प्रताप चतुर्वेदी ने तत्काल दिलीप मिश्रा का पक्का मकान बनाने के लिए आर्थिक सहयोग दिया और परिवार को तत्काल भरण-पोषण के लिए भी सहयोग किया। लोगों को यह अनुमान नहीं था कि डा. उदय प्रताप चतुर्वेदी गरीब ब्राहम्ण दिलीप मिश्रा का छत लगवाने का भी काम करेंगे, लेकिन डा. उदय प्रताप चतुर्वेदी के मन में पहले से ही छत लगाने तक का संकल्प था। जिले के हजारों की संख्या में लोगो का आर्थिक मदद करके स्वालम्बी बनाने में सहयोग रहा है। डा. दिलीप मिश्रा का मकान बनकर पूरी तरह जब तैयार हो गया और रंगरोगन होकर अपने सुन्दरता को निखाराने लगा, तब डा. उदय प्रताप चतुर्वेदी ने मकान निर्माण पूरा होने की सूचना पाकर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि दिलीप मिश्रा के नये घर का गृह प्रवेश भी धूमधाम से किया जायेगा, जिसमें हजारों लोग शिरकत करेंगे। डा. उदय प्रताप चतुर्वेदी के इस निर्णय के सूचना से दिलीप मिश्रा के परिवार का जहां खुशियो से आंखे डबडबा गई, वहीं जानने वाले भी डा. उदय प्रताप चतुर्वेदी के इस उदारवादी सोच की जमकर सराहना कर रहें है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here