संतकबीरनगर:- सूर्या इण्‍टरनेशनल एकेडमी की आनलाइन पढ़ाई में छात्रों के साथ शिक्षक भी उत्‍साहित ( रिपोर्ट:- मोनू वर्मा )

0
226

सूर्या इण्‍टरनेशनल एकेडमी की आनलाइन पढ़ाई में छात्रों के साथ शिक्षक भी उत्‍साहित

रिपोर्ट :- मोनू वर्मा

एकेडमी के 4000 छात्र – छात्राएं उठा रहे हैं आनलाइन शिक्षण का लाभ

आनलाइन शिक्षा को प्रोत्‍साहित करने के लिए डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी ने दिया छात्रों और अभिभावकों का जताया आभार

आनलाइन प्रवेश के लिए एकेडमी की हेल्‍पलाइन से कर सकते हैं सम्‍पर्क

संतकबीरनगर-कोरोना को लेकर चल रहे लॉकडाउन के दौर में सूर्या इण्‍टरनेशनल एकेडमी की आनलाइन पढ़ाई में छात्रों के साथ ही शिक्षक भी पूरे उत्‍साह के साथ प्रतिभाग कर रहे हैं। अत्‍याधुनिक तरीके से चल रही इस पढ़ाई में शिक्षक पूरे मनोयोग से जहां बच्‍चों को पढ़ाने का काम कर रहे हैं। वहीं एकेडमी का प्रबन्‍ध तन्‍त्र भी पूरे उत्‍साह के साथ ही पठन पाठन में रुचि लेने के साथ ही व्‍यवस्‍था को और भी सुदृढ़ बनाने में लगा हुआ है। डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी ने आगे बताया कि कोरोना के लॉकडाउन के दौरान 4000 से अधिक छात्र छात्राएं आनलाइन शिक्षण का लाभ निरन्‍तर ले रहे हैं। मौजूदा सत्र में लॉकडाउन के बावजूद अपने पाल्‍यों के प्रवेश के लिए शिक्षक लगातार दबाव बनाए हुए हैं। इस दबाव को देखते हुए आनलाइन प्रवेश की व्‍यवस्‍था की गई है। एकेडमी में उपलब्‍ध सीमित स्‍थानों के लिए आनलाइन पंजीकरण व प्रवेश की सुविधा दी गई है। यही नहीं विगत सत्र में अध्‍ययनरत छात्र छात्राओं का वार्षिक परीक्षाफल भी वितरित नहीं हो पाया था। इसे ध्‍यान में रखते हुए परीक्षाफल से सम्‍बन्धित जानकारी के लिए हेल्‍प लाइन पर सम्‍पर्क किया जा सकता है।।। एकेडमी के निदेशक डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी ने पूर्व में ही घोषणा कर दी है कि किसी भी छात्र से अप्रैल, मई और जून का शुल्‍क नहीं लिया जाएगा। इस शुल्‍क में शिक्षण शुल्‍क के साथ ही वाहन शुल्‍क भी शामिल है। इस घोषणा के बाद से ही छात्र छात्राओं तथा उनके अभिभावकों ने एकेडमी के निदेशक मण्‍डल को धन्‍यवाद भी दिया है। डॉ उदय प्रताप चतुर्वेदी ने बताया कि आनलाइन पठन पाठन के लिए अगर किसी छात्र छात्रा को पुस्‍तक की जरुरत हो तो वह एकेडमी से सम्‍पर्क कर सकता है। आनलाइन पठन पाठन के दौरान पुस्‍तकों की पीडीएफ कापी शिक्षकों के द्वारा बच्‍चों को उपलब्‍ध कराई जा रही है। लेकिन इसके बावजूद अगर वह जरुरत महसूस करते हों तो वे एकेडमी के हेल्‍पलाइन पर सम्‍पर्क करके आवश्‍यक जानकारी प्राप्‍त कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here