संतकबीरनगर:- होम क्वांटिन हुए प्रवासी मजदूर के घूमने फिरने से ग्रामीणो में दहशत ( रिपोर्ट:- सत्य प्रकाश )

0
335

होम क्वांटिन हुए प्रवासी मजदूर के घूमने फिरने से ग्रामीणो में दहशत

रिपोर्ट:- सत्य प्रकाश

-गांवों में होम क्वारन्टाईन का नहीं हो रहा पालन

संत कबीर नगर मगर। कोरोना वायरस से पूरा देश जूझ रहा है।हर तरफ अफरा तफरी मची हुई है और कल कारखानो,बाजारों आदि के बन्द होने सभी लोग परेशान हाल मे जीवन बिताने को मजबूर हैं।ऐसे में बाहर जाकर रोजी रोटी कमाने वाले मजदूर पलायन कर घर आये हैं।जिन्हें क्वारंटीन सेंटरों एवं होम क्वारंटिन किया गया है।जिससे कोरोना महामारी से बचाया जा सके।इसके ग्राम पंचायत अशरफाबाद एवं गणसरपार में आये प्रवासी मजदूरों को होम क्वारन्टाईन किया गया लेकिन होम क्वारन्टाईन के बजाय गांव में बेहिचक घूम रहे हैं।जिसे लेकर ग्रामीणों में दहशत का माहौल बन गया है।
कोरोना वैश्विक महामारी अब शहरों से निकल कर ग्रामीण क्षेत्रों में भी तेजी के साथ पैर पसार रही है।इसके पीछे मुम्बई,अहमदाबाद,बंगलौर,चेन्नई,लुधियाना,राजस्थान,दिल्ली,हैदराबाद,पंजाब,कोलकता आदि बड़े शहरों से लाखो की संख्या प्रवासी मजदूरों का पलायन होना बताया जा रहा है।गांव के गरीब तपके के लोग परिवार के पालन पोषण के लिए रोजगार के लिए शहर की ओर पलायन कर गए थे।जो इस महामारी के कारण सब कुछ बन्द हो जाने से पुन:अपने घरों को वापस पलायन कर आ रहे हैं।इन प्रवासी मजदूरों के आने के साथ ही कोरोना वायरस के फैलने की आशंका को देखते हुए सरकार ने सभी मजदूरों को क्वारन्टाईन सेंटरों के अलावा होम क्वारन्टाईन करने का निर्देश दिया है।जिनके देख रेख हेतु ग्राम प्रधान,आशा,रोजगार सेवक,आंगनबाड़ी कार्यकत्री तथा हल्का लेखपाल की निगरानी समिति बनाई गई है।विकास खण्ड खलीलाबाद के ग्राम पंचायत गणसरपार,अशरफाबाद और मोहम्मदपुर कठार,ब्यारा में बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर आए हुए हैं।जिनका प्रशासन ने ट्रांजिट सेंटर पर थर्मल स्क्रीनिग कराने के बाद प्रवासी मजदूरों को घरों पर भेज दिया और होम क्वारन्टाईन रहने का शख्त निर्देश देते हुए हिदायत भी दी।इसके बावजूद प्रवासी मजदूर होम क्वारन्टाईन रहने के बजाय गांव में बेहिचक घूम रहे हैं और मना करने झगड़ा लड़ाई करने पर उतारू हो जा रहे हैं।इस सम्बंध में अशरफबाद की लेखपाल ने बताया कि गांव मे आये प्रवासी मजदूरों की देख रेख के लिए प्रधान को जिम्मेदारी दी गई।जबकि ग्राम प्रधान इसराक ने बताया कि उनका एक मकान मगहर कस्बे के शेरपुर रेहरवा में है जो हाटस्पाट जोन में आ गया है।जिसके कारण गांव नहीं जा सकता हूं।प्रशासन ने पास भी नहीं बनाया है।वहीं गणसरपार के प्रधान अरूण कुमार राव का कहना है कि उनके गांव मे भी भारी संख्या में प्रवासी मजदूर होम क्वारन्टाईन किये गये हैं।लेकिन सभी लोग पूरे गांव में स्वछन्द विचरण करते हैं।उन्होने जिसकी सूचना प्रशासन के जिम्मेदार लोगों को दे दी है लेकिन अभी तक इस तरफ किसीने सज्ञान नहीं लिया है।अगर प्रवासी मजदूरों के विचरण करने पर अंकुश नहीं लगाया गया तो कोरोना के चपेट में आने से इनकार भी नहीं किया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here