संत कबीरनगर :धोखाधड़ी मामले में प्रभा इंस्टीट्यूट के प्रबंधक पर सी एमओ ने दर्ज करवाया केस ( रिपोर्ट : विजय गुप्ता )

0
187

धोखाधड़ी मामले में प्रभा इंस्टीट्यूट के प्रबंधक पर सी एमओ ने दर्ज करवाया केस

संतकबीरनगर : सीएमओ हरगोविंद सिंह की तहरीर पर कोतवाली पुलिस ने प्रभा इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस के मैनेजिंग डायरेक्टर के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। इंस्टीट्यूट के प्रबंधक वैभव चतुर्वेदी के ऊपर ये आरोप है कि उन्होंने धोखाधड़ी और जालसाजी के जरिये कूटरचित दस्तावेज तैयार कर उसे असली के रूप में प्रयोग करने के मामले में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। एसपी ब्रजेश सिंह को दिए पत्र में सीएमओ ने बताया कि डीएम रवीश गुप्ता के निर्देश पर प्रभा इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल साइंस विधियानी खलीलाबाद के बारे में आख्या मांगी गई, इसमें मुख्य प्रशासनिक अधिकारी यूपी मेडिकल फैकेल्टी सर्वपल्ली माल एवेन्यू रोड लखनऊ ने 15 जून को पत्र भेजा है, पत्र में प्रभा देवी चैरिटेबल सोसायटी द्वारा प्रस्तावित प्रभाव इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल साइंस विधियानी खलीलाबाद के नाम से पंजीकृत प्रमाण पत्र संलग्न है,पंजीकरण प्रमाण पत्र 10 अक्टूबर 2019 से 10 अक्टूबर 2020 तक संख्या एवं पंजीकृत 24 अक्टूबर 2019 से 30 अप्रैल 2020 तक संख्या 50 की छाया प्रति संलग्न है। यूपी मेडिकल फैकल्टी ने सीएमओ से जब ये जानकारी मांगी कि चिकित्सालय के पंजीयन प्रमाण पत्र वैध है अथवा नहीं एवं इनके सामने अंकित बेड की संख्या का भी सत्यापन करते हुए आख्या मांगी गई थी।सीएमओ ने एसपी को दिए पत्र में कहा कि अवगत कराना है कि वित्तीय वर्ष 2019-20 बीच में उक्त इंस्टिट्यूट के पंजीकरण के लिए कोई आवेदन पत्र कार्यालय में प्राप्त नहीं हुआ है न ही उक्त नाम से कोई इंस्टीट्यूट कार्यालय में पंजीकृत है, संलग्न पंजीकरण प्रमाण पत्र जो एडिशनल सीएमओ के हस्ताक्षर से जारी किया गया है उस अवधि में उक्त हस्ताक्षर नमूने का न तो कोई एडिशनल सीएमओ और न ही सीएमओ इस जिले में कार्यरत थे, इससे प्रतीत होता है कि प्रबंधक प्रभा इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल साइंस बिधियानी द्वारा कूट रचित अभिलेख तैयार कर पंजीकरण किया गया है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here