संतकबीरनगर :कौन कहता है कि आसमान में छेद नहीं हो सकता, तबीयत से एक पत्थर उछालो तो -अब्दुल्ला खान (डायरेक्टर रिलैक्सो डेमस्क्योर ) ( रिपोर्ट : विजय गुप्ता )

0
65

कौन कहता है कि आसमान में छेद नहीं हो सकता, तबीयत से एक पत्थर उछालो तो -अब्दुल्ला खान (डायरेक्टर रिलैक्सो डेमस्क्योर )
संतकबीरनगर। कहते हैं कि अगर कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो कोई चीज़ मुश्किल नहीं है। कुछ इसी तरह बरगदवाकला में देखने को मिल रहा है। बरगदवाकला निवासी तथा रिलैक्सो डोम्सवेयर के डायरेक्टर अब्दुल्लाह खान के अथक प्रयास का असर दिख रहा है।
बेलहर कला का ग्राम पंचायत बरगदवां कला कामर्शियल गांव की ओर अग्रसर होता दिखायी दे रहा है जबसे गांव मे रिलैक्सो डोमस्वेयर कंपनी स्थापित हुआ है तब से रोजी रोजगार के अवसर बढ़ने लगे है एक तरफ जहां कंपनी मे लगकर रोजी प्राप्त की जा रही है वही कंपनी के सहयोग से रोजी रोजगार किये जा रहे है व्यवसायिक खेती बतौर बढ़ावा किसानो को केले के पौधे, पपीते के पौधे वितरित कर आर्थिक मजबूती देने का काम किया जा रहा है अब तक दर्जनो किसानो को सैकड़ो केले पपीते का पौधा नाशिक महाराष्ट्र से उपलब्ध करवा कर दिया जा चुका है । जिससे श्यामलाल व करम हुसेन
जैसे किसान आर्थिक मजबूती पाते हुए खुशहाल जिन्दगी की ओर अग्रसर है तो वही चाय की दुकान , किराने की दुकान , सैलून एवं रोजमर्रा की जरुरते पूरी करने वाली छोटी – बड़ी दुकाने खोलवा कर खुशहाल जिन्दगी के आयाम दिलाने का प्रयास किया जा रहा है।यही नही गांव क्षेत्र के गरीब बीमार व्यक्ति इलाज से वंचित न हो इसका भी ख्याल रखते हुए अपना गांव मुफ्त दवाखाना खोलकर नियमित स्वास्थ्य लाभ दिया जा रहा है । अपने दो साल के अल्प काल मे ही कंपनी द्वारा सैकड़ो लोगो को रोजी रोजगार मुहैया कराया जा चुका है। ग्रामीणो का मानना है कि अब वह दिन दूर नही जब हमारे गांव को लोग रोजी – रोजगार के नाम से जानेंगे । टंकी मे चाय की दुकान चला रहे संतराम,रजा मुहम्मद,मंगरू ( वसीउल्लाह ) ने बताया कि हर रोज उतना इनकम हो जा रहा है जितने मे हमारे परिवार का भरण – पोषण हो सके ।कंपनी की मदद से सैलून खोलने वाले शकील भाई ने बताया कि अगर बचाने भर का कमाई नही हो रहा है तो किसी के सामने हाथ भी नही जोड़ना पड़ रहा है । इसी क्रम मे किराने की दुकान चला रहे अली हुसैन ने बताया कि भले ही हम कम पूंजी लगाकर दुकान खोले है लेकिन इससे हमारा गरज चल जा रहा है ।
डायरेक्टर अब्दुल्लाह खान ने ख्वाजा एक्सप्रेस से बातचीत में कहा कि गांवों में नये नये उद्योग और रोजगार निर्माण करके गांवों को संपन्न और खुशहाल बनाना यह उनका सपना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here